मन की बात का 92वां एपिसोड: PM मोदी बोले- आने वाली पीढ़ियों की चिंता हो तो सामर्थ्य खुद ही आ जाता है

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रेडियो पर ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 92वें ऐपिसोड के जरिए देश के लोगों को संबोधित किया। जल संरक्षण पर बोलते हुए मोदी ने कहा कि आने वाली पीढ़ियों की चिंता हो तो सामर्थ्य खुद ही आ जाता है। इसके कई उदाहरण अपने देश में ही हैं।

मोदी ने आगे कहा कि देश में मोटे अनाज के प्रति लोगों का लगाव बढ़ा है। यहां तक की विदेशी मेहमानों ने भी मोटे अनाज से बने व्यंजन की तारीफ की है।

दूरदर्शन के स्वराज प्रोग्राम को देखने की अपील की
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दिनों सूचना प्रसारण मंत्रालय के एक प्रोग्राम स्वराज में जाने का मौका मुझे मिला। इस प्रोग्राम में आजादी में भाग लेने वाले अनसुने नायक-नायिकाओं की गाथा के बारे में बताया गया है। मैं आप सबसे अपील करता हूं कि इस प्रोग्राम को जरूर देखें।

अमृत सरोवर का निर्माण जन-आंदोलन बन गया है
मोदी ने आगे कहा- मन की बात कार्यक्रम में 4 महीने पहले मैंने अमृत सरोवर बनाने की बात कही। इसके बाद जिला प्रशासन और स्वयं सेवी संस्थाएं जुटीं। स्थानीय लोगों की भागीदारी बढ़ने के साथ ही यह अब एक जन-आंदोलन बन गया है।

देश में डिजिटल इंटरप्रेन्योर पैदा हो रहे हैं
गांव-गाव में 4G इंटरनेट आने के बाद देश में डिजिटल इंटरप्रेन्योर पैदा हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ने राजस्थान के अजमेर जिले के सेठा सिंह रावत और उन्नाव के ओम प्रकाश सिंह का जिक्र किया। सेठा सिंह ई-दर्जी का स्टोर चलाते हैं, जबकि ओम प्रकाश ब्रॉडबैंड कनेक्शन का काम करते हैं।

पिछली मन की बात में आजादी के महत्व को समझाया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले मन की बात कार्यक्रम में आजादी के महत्व को समझाते हुए कहा कि हम सभी अद्भुत और ऐतिहासिक पल के गवाह बनने जा रहे हैं। ईश्वर ने हमें बड़ सौभाग्य दिया है। अगर हम गुलामी के दौर में पैदा हुए होते, तो, इस दिन की कल्पना हमारे लिए कैसी होती? गुलामी से मुक्ति की वो तड़प, पराधीनता की बेड़ियों से आजादी की वो बेचैनी – कितनी बड़ी रही होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *