नेशनल हेराल्ड केस में ईडी को मिले हवाला ट्रांजैक्शन के सबूत!, सोनिया-राहुल के बयानों की दोबारा होगी जांच

नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ED) को नेशनल हेराल्ड केस में हवाला से ट्रांजैक्शन के सबूत मिले हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ईडी के सूत्रों के हवाले यह दावा किया गया है। हवाला ट्रांजैक्शन नेशनल हेराल्ड, उससे जुड़ी कंपनियों और थर्ड पार्टी के बीच होने की बात सामने आई है। इसे देखते हुए ईडी अब सोनिया गांधी और राहुल गांधी के बयानों की दोबारा जांच करेगी।

दिल्ली की हेराल्ड बिल्डिंग में यंग इंडिया के दफ्तर की छानबीन के दौरान ईडी को कुछ दस्तावेज मिले हैं। दस्तावेजों में मुंबई और कोलकाता के हवाला आॅपरेटर्स के ट्रांजैक्शन के सबूत मिले हैं। यंग इंडिया के दफ्तर की जांच पूरी होने के बाद जांच एजेंसी बड़ा एक्शन लेगी। यह एक्शन क्या होगा, ये अभी सूत्रों ने साफ-साफ नहीं बताया है।

हम डरते नहीं, उन्हें जो करना है कर लें: राहुल
नेशनल हेराल्ड केस में जारी ईडी की जांच के दौरान यंग इंडिया के दफ्तर को सील किए जाने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। राहुल ने कहा, ‘हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से डरते नहीं है। उन्हें जो करना है कर लें। हमारा काम संविधान की रक्षा के लिए लड़ना है। देश के सम्मान के लिए लड़ना है। यह जंग जारी रहेगी। राहुल ने कहा, ‘अब सत्याग्रह नहीं अब रण होगा।’ यंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड का आॅफिस सील होने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपना कर्नाटक दौरा छोड़कर दिल्ली लौट आए है।

उन्हें कानून से नहीं भागने देंगे: पात्रा
राहुल के बयान पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘देश का कानून सबके लिए एक है। वह न कांग्रेस अध्यक्ष के लिए बदल सकता है और न ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के लिए। वे भारत के कानून से भिड़ना चाहते हैं। न उन्हें कानून से रण करने दिया जाएगा न ही ‘रन’ करने (भागने) दिया जाएगा।

मल्लिकार्जुन खड़गे से 7 घंटे तक ईडी ने की पूछताछ
नेशनल हेराल्ड मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को करीब सात घंटे तक कांग्रेस के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे से पूछताछ की। इसकी कांग्रेस ने निंदा की है। खड़गे से दोपहर 1.30 बजे पूछताछ शुरू हुई थी जो कि रात को करीब 8.30 बजे तक चली. कांग्रेस नेताओं का कहना है कि यह राजनीतिक बदले की हद है। जानकारी के मुताबिक, ईडी ने मल्लिकार्जुन खड़गे से यंग इंडियन के पूर्व कर्मचारियों, वेतन और व्यावसायिक गतिविधियों के बारे में पूछताछ की।

संसद सत्र के दौरान विपक्ष के नेता से पूछताछ
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने खड़गे को समन भेजने पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ कि जब संसद चल रही हो, तब विपक्ष के नेता को ईडी या अन्य इन्वेस्टिगेशन एजेंसी द्वारा बयान देने के लिए बुलाया गया हो। अगर खड़गे को बुलाना था तो सुबह 11 बजे से पहले या शाम 5 बजे के बाद बुला लेते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *