जबलपुर के प्राइवेट अस्पताल में आग, 8 की मौत, 8 की हालत गंभीर

जबलपुर. मध्यप्रदेश के जबलपुर में सोमवार को एक निजी अस्पताल में आग लग गई। आग से तीन मंजिला बिल्डिंग लगभग पूरी तरह जल गई। हादसे में अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 8 की हालत गंभीर है, इनमें से दो लोग ICU में हैं। मरने वालों में अस्पताल के 4 स्टाफ भी हैं। हादसे के वक्त 35 लोग अस्पताल में मौजूद थे। मौतों का आंकड़ा और बढ़ सकता है।

पुलिस के मुताबिक जबलपुर के विजय नगर स्थित न्यू लाइफ मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के एंट्रेस पॉइंट पर दोपहर करीब पौने तीन बजे शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लग गई। आग इतनी तेजी से फैली कि कुछ ही देर में तीन मंजिला बिल्डिंग पूरी तरह जल गई।

बिल्डिंग के दूसरे फ्लोर पर ज्यादा लोगों की मौत हुई है। घायलों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। बताया जा रहा है कि आग लगने के बाद मरीजों को बचाने के दौरान कुछ लोग अंदर गए जो बाहर नहीं निकल सके। लपटें इतनी तेज थीं कि कमरे में फंसे लोगों को बाहर निकालना बेहद मुश्किल हो गया। कुछ लोगों को खिड़की और दरवाजे तोड़कर बाहर निकाला गया।

अस्पताल प्रबंधन की तरफ से अभी तक कोई बयान सामने नहीं आया है। CM शिवराज सिंह चौहान ने हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए और गंभीर घायलों के लिए 50-50 हजार रुपए की मदद की घोषणा की है। आग की सूचना पर फायर ब्रिगेड का अमला पहुंचा और करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया।

जनरेटर की वजह से लगी आग
अस्पताल तीन मंजिला है, जिसमें बेड की संख्या 30 है। अस्पताल संचालक का नाम डॉक्टर सुदेश पटेल है। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि दोपहर के वक्त लाइट चली गई थी, इसी दौरान जनरेटर चालू हुआ और इससे हुए शॉर्ट सर्किट की वजह से आग फैल गई। आग नीचे से ऊपर की ओर लगी।

मुख्यमंत्री ने कहा- इलाज का खर्च सरकार उठाएगी
CM शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए हादसे पर दुख जताया और मृतकों के परिजनों के लिए मुआवजे की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने लिखा, ‘दु:ख की इस घड़ी में शोकाकुल परिवार स्वयं को अकेला न समझें, मैं और संपूर्ण मध्यप्रदेश परिवार के साथ है। राज्य सरकार की ओर से मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए और गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी। घायलों के संपूर्ण इलाज का व्यय भी सरकार वहन करेगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *