दिल्ली एक्साइज पॉलिसी केस में 7 राज्यों में छापे, BJP बोली- पंजाब चुनाव से पहले केजरी-शराब माफिया में डील हुई

नई दिल्ली. दिल्ली की आबकारी नीति मामले में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के आवास समेत 21 जगहों पर सीबीआई की छापेमारी चल रही है। जांच एजेंसी सुबह 8.30 बजे ही सिसोदिया के घर पहुंच गई थी। तब से सरकारी आवास (ए विंग दिल्ली सचिवालय) में तलाशी जारी है। खबरों के मुताबिक, अफसरों ने उनके और परिवार के बाकी सदस्यों का फोन जब्त कर लिया गया है।

इस कार्रवाई के बाद AAP और बीजेपी आमने-सामने आ गई है। आप ने कहा कि यह कार्रवाई केजरीवाल को रोकने के लिए की गई। उधर, भाजपा का आरोप है कि पंजाब चुनाव से पहले केजरी-शराब माफिया में डील हुई थी।

AAP ने कहा- मोदीजी केजरीवाल को रोक नहीं पाएंगे
AAP ने सीबीआई छापे के दौरान प्रेस कॉन्फ्रेंस की। राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि अरविंद केजरीवाल 3 बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बने। पंजाब गए तो वहां प्रचंड बहुमत से AAP की सरकार बनी।

पूरे देश में केजरीवाल का शिक्षा और स्वास्थ्य का मॉडल पहुंच रहा है। देश में केजरीवाल के नाम पर लोग जुड़ रहे हैं, लोकप्रियता बढ़ रही है। 2 दिन पहले भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाने का अभियान उन्होंने शुरू किया, देश के हर हिस्से से लोग जुड़ रहे हैं। नरेंद्र मोदीजी के गुजरात से समर्थन मिल रहा है।

नरेंद्र मोदीजी को नींद नहीं आती
संजय सिंह ने कहा, ‘केजरीवाल चुनाव जीत रहे हैं, लोकप्रियता बढ़ रही है। इसका कारण दिल्ली का स्वास्थ्य और शिक्षा का मॉडल। इससे नरेंद्र मोदीजी को नींद नहीं आती है। एक ही चिंता लगी रहती है कि कैसे केजरीवाल को रोकना है। शिक्षा और स्वास्थ्य के मॉडल को रोकना है।’

मोदीजी केजरीवाल को रोकना चाहते हैं
उन्होंने कहा, ‘शर्म आती है कि प्रधानमंत्री की सोच का स्तर इतना छोटा है कि बौखलाकर दूसरे दिन ही सिसोदिया के घर सीबीआई भेज दी। उन्हें खुश होना चाहिए था। मकसद शराब नीति की जांच नहीं है। मकसद केजरीवाल की बढ़ती लोकप्रियता को रोकना है।

शराब मुद्दा होती तो सबसे पहले गुजरात में नकली और जहरीली शराब बनाने वाले भाजपा नेताओं के खिलाफ जांच होनी चाहिए। CBI, ED और दिल्ली पुलिस को आपने मजाक बना रखा है। हम स्वागत करते हैं कि जितनी जांच कराइए। पहले कुछ नहीं निकला था और न अब कुछ नहीं निकलेगा। आपका चेहरा बेनकाब होगा। नरेंद्र मोदी और भाजपा बेनकाब होगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *