आखिर क्या थी मंत्री धारीवाल की नाराजगी जो कलक्टर का तत्काल हुआ तबादला!

कोटा. नगरीय विकास व स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल की नाराजगी के बाद कोटा जिला कलक्टर हरिमोहन मीणा का तबादला मात्र साढ़े 5 घंटे में ही हो गया। हरिमोहन मीणा का सोमवार को जन्मदिन था और उन्हें कोटा में कलक्टर के रुप में कार्य करते हुए करीब साढ़े पांच महीने ही हुए थे। जिला कलक्टर की तबादला की विशेष सूची जारी की गई, जिसमें सिर्फ 4 आईएएस अधिकारियों के नाम थे, इससे पहले 29 आईएएस अधिकारियों की तबादला सूची सोमवार को सुबह के समय ही आ गई थी।

तबादला सूची जारी होने से पहले दोपहर में ही विकास कार्यों के निरीक्षण के दौरान मंत्री शांति धारीवाल ने कलक्टर मीणा के फाइल रोकने पर आपत्ति जताई थी और मौके पर मौजूद यूआईटी सचिव राजेश जोशी को फटकार लगाई थी। ऐसा माना जा रहा है कि इस नाराजगी की वजह से ही कलक्टर का तबादला हुआ है। मीणा के स्थान पर ओमप्रकाश बुनकर को कोटा कलक्टर लगाया।

निरीक्षण के दौरान नाराजगी जताते धारीवाल।
निरीक्षण के दौरान नाराजगी जताते धारीवाल।

नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल कोटा के दौरे पर हैं, वो सोमवार को सुबह से ही यूआईटी और स्मार्ट सिटी के माध्यम से कराए जा रहे विकास कार्यों का निरीक्षण कर रहे थे। इसी दौरान करीब 2 बजे के आसपास मंत्री धारीवाल रामपुरा मुक्ति धाम के पास रिवर फ्रंट के निर्माण कार्यों और रिटर्निंग वॉल का निरीक्षण कर रहे थे। इसी दौरान रामपुरा रिटर्निंग वॉल निर्माण कार्यों की देरी को लेकर मंत्री धारीवाल ने ठेकेदार से पूछा तो उन्होने कहा कि मेरी तरफ से पूरी तैयारी है, लेकिन यूआईटी द्वारा अनुमति नहीं दी गई है।

इस पर मंत्री धारीवाल ने यूआईटी सचिव राजेश जोशी से इसका कारण पूछा, सचिव जोशी ने कहा कि जिला कलक्टर व यूआईटी अध्यक्ष हरिमोहन मीणा के पास फाइल एक माह से पेंडिंग है। इस पर मंत्री धारीवाल ने यूआईटी सचिव को फटकार लगा दी। मंत्री ने सचिव जोशी ने कहा कि आप कलक्टर से डरते हो क्या, कलक्टर ने इतने दिनों से फाइल रोक रखी है तो मेरे को क्यों नहीं बताया। इसके बाद मंत्री धारीवाल ने ठेकेदार को कह दिया कि आप कार्य शुरू कर दे, कलक्टर से अनुमति मिल जाएगी।

माना जा रहा है कि इस मामले के साथ ही कुछ और शिकायतें भी मंत्री धारीवाल के पास पहुंची थी, जिसे लेकर धारीवाल गंभीर थे। इसके बाद ही कलक्टर का तबादला कर दिया गया। हरिमोहन मीणा ने 19 जनवरी 2022 को ही कोटा कलक्टर के रूप में कार्यभार संभाला था, इससे पहले वे झालावाड़ के कलक्टर थे। उनका कोटा कलक्टर के रूप में कार्यकाल मात्र साढ़े पांच माह का रहा। इससे पूर्व जारी सूची में बूंदी की कलक्टर रेणु जयपाल का भी तबादला कर दिया गया। डॉ.रविन्द्र गोस्वामी अब बूंदी कलक्टर होंगे। वहीं कोटा आईजी प्रसन्न कुमार खमेसरा को लगाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *