पूर्व विधायक राजावत ने जलदाय विभाग के एडिशनल चीफ इंजीनियर को जबरन पिलाया फ्लोराइड वाला पानी

संदेश न्यूज। कोटा. राज्य सरकार एवं जलदाय विभाग की लापरवाही के चलते कोटा की 500 कॉलोनियों एवं 50 बहुमंजिला इमारतों में लाखों लोग चम्बल के किनारे रहते हुए भी चम्बल के पानी से वंचित हैं। पूर्व संसदीय सचिव भवानी सिंह राजावत यह आरोप लगाते हुए सोमवार को जलदाय विभाग कार्यालय जा धमके और अपने साथ बोतल में लाया गया फ्लोराइड युक्त पानी अतिरिक्त मुख्य अभियंता महेश जांगिड़ को जबरन पिला दिया।

उन्होंने स्पष्ट चेतावनी दी कि अगर सरकार ने आमजन तक चम्बल का पानी नहीं पहुंचाया तो आने वाले समय में पीड़ित जनता बड़ा आंदोलन करेगी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बिना किसी पूर्व घोषणा के पूर्व विधायक राजावत सैंकड़ों समर्थकों के साथ जलदाय विभाग कार्यालय जा धमके और अतिरिक्त मुख्य अभियंता को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि बहुमंजिला इमारतों एवं कृषि भूमि कॉलोनियों में रहने वाले मध्यम श्रेणी के लोगों का क्या अपराध है जो उन्हें फ्लोराइड युक्त पानी पीने की सजा दी जा रही है। चम्बल में अथाह पानी मौजूद है जो पूरे कोटा शहर के लोगों को 24 घण्टे जलापूर्ति करे तो भी बचा रहेगा, इसके अलावा भी हर साल बरसात में लाखों गैलन पानी बहा दिया जाता है। ऐसे में कोटा के लोगों को पानी से वंचित रखना सरकार का बहुत बड़ा अन्याय है।

राजावत ने कहा कि एक ओर केन्द्र सरकार जल जीवन मिशन में बांधों और नदियों के पानी को फिल्टर कर नलों से दूर-दराज के ग्रामीण इलाके में भी पानी पहुंचा रही है। हाल ही में नोनेरा और परवन बांध से कोटा बूंदी बारां और झालावाड़ जिलों के 800 गांवों को पानी पहुंचाने की तैयारी है फिर राजस्थान सरकार लोगों के घरों तक चम्बल का पानी क्यों नहीं पहुंचा रही है। एक ओर कोटा के सौंदर्यीकरण पर 4 हजार करोड़ खर्च किए जा रहे हैं तो फिर बढ़ती आबादी की देखते हुए फिल्टर प्लांट की क्षमता बढ़ाने पर पैसा क्यों नहीं खर्च किया जा रहा।

कोटा शहर के हालात यह हो गए हैं कि फ्लोराइड का पानी पीने से लोगों को बेचैनी, त्वचा रोग, आंते खराब होना, बाल झड़ना जैसे कई रोगों से जूझना पड़ रहा है। अगर यही हालात रहे और लाखों लोगों के जीवन से जुड़े इस गम्भीर मामले में राज्य सरकार ने ध्यान नहीं दिया तो आक्रोशित जनता जलदाय विभाग को ताला लगा देगी और आने वाले समय में कोटा बंद भी करवाएगी। सोमवा को प्रदर्शन करने वालों में मण्डल अध्यक्ष हुकमचन्द शर्मा, एसटी मोर्चा उपाध्यक्ष जयकिशन मीणा, सरपंच अमर सिंह, युवा मोर्चा के सतीश भारद्वाज, पूर्व मण्डल अध्यक्ष कान सिंह, किसान मोर्चा उपाध्यक्ष महावीर सुमन, युवा मोर्चा उपाध्यक्ष जयराज सिंह, मोर्चा उपाध्यक्ष लाजवीर सिंह, गाड़िया लुहार समाज के प्रदेश मंत्री घासी लुहार, मंडल महामंत्री कमलेश गौतम, मुकेश जैन आदि प्रमुख थे।

जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता महेश जांगिड़ ने कहा कि जिन क्षेत्रों में पानी की समस्या है, लोग बोरिंग का पानी पी रहे हैं, उन क्षेत्रों की समस्या के बारे में ये अवगत कराने आए थे। उनकी बात को सरकार तक पहुंचा देंगे। अभी यूआईटी ने नई कॉलोनियों में पाइपलाइन के लिए 70 करोड़ की स्वीकृति ली हुई है, वहां पाइपलाइन डाल देंगे। उसके बाद बचे हुए क्षेत्रों में जलदाय विभाग योजना बनाकर जलापूर्ति की व्यवस्था करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *