अगले दो वर्षों तक मर्ज नहीं होगी नीट, जेईई व सीयूईटी: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कोटा में की घोषणा

  • कोई सैद्धांतिक निर्णय नहीं हुआ, कोई प्रस्ताव भी नहीं
  • असमंजस में चल रहे लाखों विद्यार्थियों को राहत

कोटा. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को यहां विद्यार्थियों को आश्वस्त किया कि नीट, जेईई और कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) को मर्ज करने का फिलहाल कोई प्रस्ताव नहीं है। विद्यार्थी जो भी तैयारी कर रहे हैं, वह करते रहें, उन्हें चिंतित होने की जरूरत नहीं है। पिछले दिनों सामने आई अटकलों से असमंजस में चल रहे लाखों विद्यार्थियों को केंद्रीय शिक्षा मंत्री के स्पष्टीकरण से राहत मिली है।

कोटा आए केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान एक कार्यक्रम में इंजीनियरिंग व मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे देशभर के विद्यार्थियों से रूबरू हुए। चर्चा के दौरान छात्रों ने मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम, इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम और कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट के मर्जर पर सवाल पूछा। इस पर उन्होंने विद्यार्थियों के असमंजस को दूर करते हुए कहा कि सीयूईटी, नीट, जेईई की मर्जिंग का सैद्धांतिक निर्णय अभी नहीं हुआ है।

ऐसा कोई प्रस्ताव भी अभी नहीं है। अगले साल भी नहीं होगा। जब करेंगे तो बहुत पहले नोटिस देकर करेंगे। कम से कम दो साल में कम्बाइंड टेस्ट नहीं देंगे। निश्चिंत होकर पढ़ाई करो। ऐसा कोई निर्णय लेने में भी समय लगेगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों के बारे में उन्होंने कहा कि नेशनल एजुकेशन पॉलिसी में स्कूल एजुकेशन को नए ढांचे में ढालने की कल्पना धरातल पर लाई जा रही है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति को ध्यान में रखते हुए 21वीं सदी ग्लोबल सिटिजन बनाने लायक पाठ्यक्रम बना रहे हैं जो भारत के मूल संस्कार के साथ जुड़ा रहेगा।

भारत बन रहा ज्ञान आधारित अर्थ नीति
धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि टेक्नोलॉजी की कुछ सुविधा और कुछ चुनौतियां हैं। उसे सरकार ने संज्ञान में लिया है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि भारत को विकसित देश बनाना है, भारत दुनिया में ज्ञान आधारित अर्थ नीति बन रहा है, उसके प्राथमिक प्रमाण आ गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *