चूहों द्वारा महिला मरीज की आंख कुतरने का मामला: बिरला पहुंचे अस्पताल, पीड़ित महिला व परिजनों से मिले

कोटा. एमबीएस अस्पताल के स्ट्रोक यूनिट में भर्ती महिला मरीज की चूहों द्वारा आंख कुतरने के मामले में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला बुधवार को अस्पताल पहुंचे। बिरला ने स्ट्रोक यूनिट वार्ड का निरीक्षण किया और पीड़ित महिला के परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने इस घटना को बेहद ही गंभीर और दुखद बताया, इतने बड़े अस्पताल में ऐसी घटना होना चिंता का विषय है। चिकित्सा विभाग को उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल में मरीज को स्वस्थ रखने के लिए हाइजेनिक वार्ड हो, चिकित्सा सुविधाएं बेहतरीन हो, मरीजों को संपूर्ण इलाज मिले इसकी व्यवस्था होनी चाहिए।

निरीक्षण के दौरान लोकसभा अध्यक्ष ने गंदगी को देखकर भी नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि एमबीएस चिकित्सालय में अभी भी गंदगी का अंबार लगा पड़ा है, उन्होंने कहा यहां मंत्री भी विजिट करेंगे उन्होंने इस संदर्भ में प्रशासन से भी बात की है। उन्होंने कहा कि चिकित्सा व्यवस्था सुधारने में धन की कोई कमी नहीं है। यहां बिजली आए दिन जाती है, इस समस्या को भी उन्होंने गंभीर माना और कहा कि बिजली पानी, बेडशीट जैसी चीजों के लिए रिव्यू होना चाहिए।

रजिस्ट्रेशन काउंटर क्यों नहीं बढ़ाते?
ओम बिरला जब ओपीडी की तरफ गए तो वहां महिलाओं की लंबी लाइन लगी हुई थी। पर्ची कटवाने के लिए भी महिलाएं 2 घंटे से इंतजार कर रही थी। ओम बिरला को देखकर महिलाएं उनके पास पहुंच गई और अपनी पीड़ा बताई। ओम बिरला ने अस्पताल अधीक्षक को बुलाया और नाराजगी जताते हुए कहा कि महिलाओं को पर्ची कटवाने में ही 2 घंटे का समय लग रहा है, इनका इलाज कब होगा। अस्पताल अधीक्षक ने कहा कि जांचों की वजह से समय लग रहा है तो बिरला ने कहा कि जांचों की वजह से मरीज इंतजार क्यों करेगा? रजिस्ट्रेशन काउंटर की संख्या क्यों नहीं बढ़ाई जाती।

ये है मामला
मामला सोमवार देर रात का है। महिला के पति देवेन्द्र सिंह भाटी ने बताया कि पत्नी रूपवती पिछले 40 दिन से यहां भर्ती है। उन्होंने बताया कि यहां चूहे खतरनाक है। रात करीब 3 बजे महिला की आंख को चूहे कुतर रहे थे, महिला ने गर्दन में हलचल की तो चूहा चला गया लेकिन पता चला की वह बार-बार आता रहा और आंख को कूतर दिया, उसकी पलक के दो टुकडेÞ हो गए, जब उठकर देखा तो आंख से खून-ही खून निकल रहा था, तत्काल डॉक्टर व नर्सिंग स्टॉफ को सूचित किया तो उनके भी होश उड़ गए। सुबह इसकी जानकारी यूनिट हेड को दी। आंख के डॉक्टर भी आए और मरीज की पलख में टांके लगाए जाने की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *