Kota: बिहार के सोनू के सपने को पूरा करेगा एलन

कोटा. एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे बिहार के बालक सोनू को गोद लेकर पढ़ाई करवाने की घोषणा की है। एलन के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि एलन बालक सोनू कुमार का कॅरियर संवारेगा। माहेश्वरी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के साथ बालक के संवाद का वीडियो नजर में आया।

कक्षा 5 में अध्ययनरत 11 साल के बच्चे की जीजीविशा और आगे बढ़ने की ललक देखते ही बनी। छोटी उम्र में तेज दिमाग और लक्ष्य के प्रति अडिग दिख रहे सोनू को एलन ने गोद लेने का फैसला किया है। हम इस बालक का कॅरियर बनाएंगे। सोनू के परिवारजनों से बात भी हो गई। उन्होंने इसके लिए स्वीकारोक्ति भी दी है। एलन चाहता है कि प्रतिभावान बच्चों के सपने नहीं टूटें, धन या संसाधनों की अनुपलब्धता के चलते वे रुके नहीं।

प्रेसवार्ता के दौरान सोनू से निदेशक बृजेश माहेश्वरी लाइव जुड़े और परिजनों के साथ बातचीत की। इस अवसर पर सोनू को कोटा आकर पढ़ने के लिए भी आॅफर किया गया, जिस पर सोनू ने कहा कि वो परिवार के साथ कोटा आकर देखेगा। इसके साथ ही सोनू ने कहा कि पढ़ाई मातृ भाषा में होनी चाहिए। क्योंकि हिन्दी में पढ़ाई होती है तो हम आसानी से समझ जाते हैं। इस पर बृजेश माहेश्वरी ने कहा कि आपकी पढ़ाई हिन्दी माध्यम में ही करवाएंगे। सोनू के परिजनों ने कहा कि इसकी पढ़ाई होती है तो ये जरूर सपने पूरे करेगा। सोनू बिहार के नालंदा जिले के छोटे से गांव का निवासी है। सोनू ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने की इच्छा भी जाहिर की।

माहेश्वरी ने कहा कि देश के सभी सक्षम लोगों से अनुरोध है कि इस तरह के बच्चों की मदद के लिए आगे आएं, क्योंकि शिक्षा सभी का हक है और बच्चों को मिलना चाहिए। एलन के शिक्षा के क्षेत्र में सामाजिक सरोकार बरसों से जारी है। बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि एलन द्वारा टैलेंटेक्स, एलन चैम्प के माध्यम से भी प्रतिभावान बच्चों को शिक्षा के लिए सपोर्ट किया जाता है।

वहीं एलन में प्रवेश के समय एलन स्कॉलरशिप एडमिशन टेस्ट (ए-सेट) के माध्यम से स्टूडेंट्स की योग्यता को परखा जाता है और 90 प्रतिशत तक फीस में रियायत दी जाती है। इसके साथ ही एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट द्वारा निर्धन परिवारों के प्रतिभावान विद्यार्थियों के सहयोग के लिए शुल्क में रियायत दी जाती है। यह रियायत 10 से 90 प्रतिशत तक हो सकती है। स्टूडेंट्स की वास्तविक स्थिति के आंकलन के लिए एक अलग से सुविधा दी गई है।

कोविड प्रभावित परिवारों के बच्चों को निशुल्क शिक्षा
एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट द्वारा कोविड की द्वितीय लहर में अपने परिजनों को खो चुके बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा की घोषणा भी की गई। इसके तहत पूरे भारत में कोविड के चलते माता-पिता को खोने वाले विद्यार्थियों को निशुल्क शिक्षा दी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *