फिर युद्ध जैसा तनाव: चीन की धमकी के बीच ताइवान पहुंची अमरीकी सदन की स्पीकर नैंसी, 24 लड़ाकू विमानों से दिया था सुरक्षा कवर

  • चीन ने कहा-खतरनाक जुआ खेल रहा है अमरीका, गंभीर नतीजे भुगतने के लिए रहे तैयार
  • अमरीका-चीन और ताइवान की सेना हाई अलर्ट पर

वॉशिंगटन. चीन की धमकी के बीच अमरीकी संसद के निचले सदन ‘हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स’ की स्पीकर नैंसी पेलोसी मंगलवार रात ताइवान की राजधानी ताईपेई पहुंची। अमरीकी एयरफोर्स और नौसेना के 24 एडवांस्ड फाइटर जेट्स ने नैंसी के प्लेन को एस्कॉर्ट करते हुए सुरक्षा कवर प्रदान किया। यूएस स्पीकर नैंसी पेलोसी के ताइवान पहुंचते ही दुनिया की सांसें तेज हो गईं हैं। रूस-यूक्रेन युद्ध के दुष्प्रभाव दुनियाभर के देश झेल रहे हैं और एक बार फिर ऐसा लग रहा है कि एक और युद्ध का काउंटडाउन शुरू हो गया है।

गौरतलब है कि चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने पिछले दिनों कहा था कि अगर पेलोसी का प्लेन ताइवान की तरफ गया तो उसे उड़ाया जा सकता है। हालांकि बाद में ये भी कहा गया कि चीनी एयरफोर्स के एयरक्राफ्ट पेलोसी के विमान को घेर लेंगे, लेकिन उन्हें रोका नहीं जाएगा। ये धमकियां कोरी साबित हुईं।

चीन ने ताइवान सीमा के पास मिलिट्री ड्रिल भी की थी। सबसे खास बात यह है कि अमरीका ताइवान और चीन तीनों ने अपनी फौजों को कॉम्बेट रेडी (जंग के लिए तैयार) रहने को कहा है। मंगलवार देर शाम तीनों ने फौजों के लिए हाईअलर्ट भी जारी कर दिया।

ताइवान में लोकतंत्र का समर्थन के लिए अमरीका प्रतिबद्ध: नैंसी
ताइपे. अमरीकी संसद प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने मंगलवार को ताइवान पहुंचने पर कहा कि उनके नेतृत्व में अमरीकी सांसदों की यात्रा ताइवान में लोकतंत्र का समर्थन करने की अमरीका की प्रतिबद्धता का सम्मान करती है। सुश्री पेलोसी ने कहा कि यह यात्रा और किसी भी तरह से अमरीका और चीन के बीच विदेश नीति समझौते का उल्लंघन नहीं करती है। उन्होंने कहा कि सांसद साझा हितों और एक स्वतंत्र हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए अमरीकी समर्थन की पुष्टि करते है। साथ ही द्वीप की यथास्थिति को बदलने के एकतरफा प्रयासों का विरोध करेंगे।

चीन की ‘टारगेटेड मिलिट्री एक्शन’ लेने की धमकी
पेलोसी के ताइवान पहुंचने के बाद चीन ने फिर अमरीका को धमकी दी। चीन ने कहा, ‘हम टारगेटेड मिलिट्री एक्शन लेंगे। हालांकि, यह साफ नहीं किया गया कि चीन किन टारगेट पर सैन्य कार्रवाई की धमकी दे रहा है।

ताइवान और अमरीका भी तैयार
रिपोर्ट्स के मुताबिक अमरीका और ताइवान की सेनाएं चीन से निपटने के लिए तैयारी कर चुकी हैं। अमरीकी नेवी के 4 वॉरशिप हाईअलर्ट पर हैं और ताइवान की समुद्री सीमा में गश्त कर रहे हैं। इन पर एफ-16 और एफ-35 जैसे हाईली एडवांस्ड फाइटर जेट्स और मिसाइलें मौजूद हैं। रीपर ड्रोन और लेजर गाइडेड मिसाइलें भी तैयार हैं। अगर चीन की तरफ से कोई हिमाकत की गई तो अमरीका और ताइवान उस पर दोनों तरफ से हमला कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *