लॉकडाउन के दौरान भी दुनिया हुई गर्म, क्लाइमेंट चेंज पर आई चिंताजनक रिपोर्ट

  • कम नहीं हुआ ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन

वॉशिंगटन. जलवायु परिवर्तन, ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन और समुद्री जलस्तर के बढ़ने को लेकर अमरीकी सरकार ने एक डराने वाली रिपोर्ट जारी की है। इसमें साफ तौर पर कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के प्रतिबंधों, लॉकडाउन के बावजूद पूरी दुनिया में ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन रिकॉर्ड स्तर पर हुआ है। समुद्र का जलस्तर बढ़ा है. इस स्टडी में 60 देशों के 530 वैज्ञानिकों ने मदद की है।

यानी पूरी दुनिया की स्टडी हुई है, वह जो परिणाम दिखा रही है वो भयावह है। नेशनल ओशिएनिक एंड एटमॉस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन के एडमिनिस्ट्रेटर रिक स्पिनरैड ने बताया कि इस रिपोर्ट से साफ पता चलता है कि हमें जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए ज्यादा कदम उठाने होंगे। हमारे पास क्लाइमेंट चेंज के सबूत हैं। इनका बुरा असर पूरी दुनिया में हो रहा है।

रिक ने बताया कि साल 2020 में पूरी दुनिया में यातायात बंद था। लॉकडाउन के दौरान गाड़ियों के नहीं चलने से ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कम हुआ। वर्ष 2021 में भी यही हाल था लेकिन इसके बावजूद साल 2021 में प्रदूषण का स्तर कम नहीं हुआ. बल्कि बढ़ा ही है। 2021 में वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैस 414.7 पार्ट्स प्रति मिलियन था, यह साल 2020 की तुलना में 2.3 पार्ट्स प्रति मिलियन ज्यादा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *