बिजली के बिलों में दौड़ेगा करंट, राज्य में 25% तक महंगी हो सकती है बिजली!

संदेश न्यूज। कोटा.
बिजली के बिलों की भारी भरकम राशि से पहले से ही परेशान उपभोक्ताओं को बिजली के बिल एक बार फिर करंट मारने वाले हैं। इस पार झटका कुछ ज्यादा ही लग सकता है। प्रदेश की तीनों सरकारी बिजली वितरण कंपनियों, जयपुर डिस्कॉम, जोधपुर डिस्कॉम व अजमेर डिस्कॉम ने घरेलु व अघरेलु उपभोक्ताओं का 25 फीसदी तक बिजली बिल बढ़ाने की टैरिफ पीटिशन, राजस्थान विद्युत विनियामक आयोग (आरईआरसी) में दायर कर दी है। जयपुर डिस्कॉम ने तो इसके बाद गत 11 सितम्बर को अपनी टैरिफ पीटिशन का आॅडियो विजुअल प्रजेंटेशन भी उपभोक्ताओं व आरईआरसी के अधिकारियों के सामने दे दिया है। अब बिजली दर बढ़ाने के विरोध में उपभोक्ता, संगठन या एसोसिएशन अपनी आपत्तियां 4 अक्टूबर तक आरईआरसी को दे सकते हैं। इन आपत्तियों की सुनवाई करने के बाद आरईआरसी बिजली कंपनियों की ओर से की गई मांग के आधार पर घरेलु व अघरेलु बिजली दरों में वृद्धि करने या नहीं करने का फैसला लेगा। यदि लोगों द्वारा कोई आपत्ति दर्ज नहीं करवाई गई या आपत्ति में तर्क सही पाया गया तो आरईआरसी, बिजली कंपनियों की टैरिफ पीटिशन को मंजूरी दे सकता है। यदि ऐसा हुआ तो बिजली का बिल लगभग 25 फीसदी बढ़ जाएगा।
घरेलू दरों में 1.55 रुपए की बढ़ोत्तरी
डिस्कॉम्स की ओर से प्रस्तावित टैरिफ में घरेलु बिजली की दर में प्रति यूनिट 1.55 रुपए की बढोतरी की गई है। इससे उपभोक्ताओं के घरों का बिल 24.20 फीसदी बढ़ जाएगा। हालांकि इसमें 300 यूनिट तक खर्च करने वाले बिजली उपभोक्ताओं का बिल 15 फीसदी ही बढ़ेगा। अधिक बिजली की खपत के अनुसार बिजली की घरेलु दर में अलग से वृद्धि होगी। इस प्रकार घरेलु विद्युत बिल अधिकतम बिजली की खपत पर 25 फीसदी तक बढ़ सकता है।
जरुर दर्ज कराएं अपनी आपत्ति
बिजली की रेट बढ़ाने की याचिका के बारे में आपत्ति या सुझाव 4 अक्टूबर तक निर्धारित फार्म में शपथ पत्र के साथ आरईआरसी के सहकार मार्ग जयपुर स्थित कार्यालय में 6 कॉपियों में दे सकते हैं या डाक से भेज सकते हैं। इसके साथ ही ई मेल भी कर सकते हंै। टैरिफ याचिका पर आमजन, उपभोक्ता, संगठन, व्यापार संघ, इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन, संस्था, एनजीओ, राजनीतिक पार्टी, यूनियन सहित अन्य कोई भी अपनी आपत्तियां दे सकते हैं। इन सभी आपत्तियों पर आरईआरसी सुनवाई करेगा, इसके बाद ही बिजली के बिलों में वृद्धि की डिस्कॉम्स की मांग पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।
अघरेलू दरों में 1.75 रुपए की बढ़ोतरी
प्रस्तावित टैरिफ में अघरेलू उपभोक्ताओं को 1.75 रुपए प्रति यूनिट तक वृद्घि का प्रस्ताव है। इससे बिजली के बिल की राशि में 23 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो जाएगी। दुकानों, संस्थानों, व्यापारिक गतिविधियों में प्रयुक्त बिजली की दरों में बढ़ोतरी का असर इन दुकानों में बिकने वाली वस्तुओं की दरों में वृद्धि के बाद आमजन पर ही दिखाई देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *